छोटे व्यापार और मिडिल क्लास

नया नया नोएडा गया था तो सोसायटी के गेट पर ही एक सब्जी विक्रेता थे । पटना के ही थे सो उन्ही के यहां से सब्जी आता था । सुबह सुबह वो अपना दुकान लगा लेते । सेक्टर 62 नोएडा के सोसायटी पब्लिक सेक्टर कंपनी के थे । मदर डेयरी का बूथ नहीं आया था ।
सब्जी विक्रेता से परिचय हो गया । दुआ सलाम होने लगा । उन्हें पता था कि मुझे गोभी सालों भर पसंद सो वो बिन मौसम भी लेे आते ।
शुरुआती दौर था सो बाबा दो किचेन हेल्पर भी गांव से भेज दिए । सब्जी विक्रेता भी मेरे रहन सहन और बात बर्ताव से कुछ छवि बना लिए । एक रोज वो बोले – सर , तीन लाख रुपया मिलेगा ? हम एकदम से हड़बड़ा गए । पंचम वेतन आयोग में मुश्किल से 16-17 हज़ार तनख़ाह , ऊपर से एक तिहाई किराया में । फिर भी हम उनसे पूछे – क्या कीजिएगा तीन लाख का ? वो बोले – पटना बाईपास पार दो कट्ठा ज़मीन तय किए हैं – छह लाख का , तीन का इंतजाम हो गया है । बाकी तीन का करना है ।
तब मेरे पास पचास हज़ार भी होता तो हम फ्लैट बुक कर देते । ई हमसे तीन लाख मांग रहे हैं ।
लेकिन एक बात समझ में आई – इस बिजनेस में पैसा था । जब सड़क किनारे सब्जी वाला उस दौर में तीन लाख जमा कर सकता था तो हम ई पैंट बुशर्ट झाड़ के क्या कर रहे हैं ।
खैर , कुछ वर्षों बाद – सेक्टर 58 नोएडा में लिट्टी वाले मिल गए – मुजफ्फरपुर के थे सो दोस्ती भी हो गई । वो इतने बढ़िया लिट्टी बनाते की टाइम्स ऑफ इंडिया वाला खबर भी बना दिया । बेहतरीन लिट्टी । उनका भी हाल इस सब्जी वाले जैसा था । बोरा के नीचे सौ टकीया तहिया के रखते थे ।
कहने का मतलब – आई ए , बी ए , इंजीनियरिंग पास कर के कटोरा लेकर मत घूमिए । थोड़ा लाज संकोच छोड़िए । छोटे व्यापार कीजिए । घर का मोह माया त्याग कीजिए । बड़े शहर में अवसर हैं । लिखना तो नहीं चाहिए लेकिन लोग कहते हैं – नोएडा के एक बड़े बिल्डर का छोटा पार्टनर एक चाय वाला था । कभी जरूरत पड़ा तो उसने उस बिल्डर को दो चार लाख का मदद किया और इस बदले उसे कंपनी में शेयर मिला । अब सच झूठ नहीं पता ।
अब पटना में मेरे ऑफिस के बगल में – जो चाय वाला है , वो नवंबर से मार्च तक प्रतिदिन पांच हज़ार कमाता है । खोजिए जगह , लडिए ।
पॉकेट में पैसा रहेगा – दुनिया पूछेगा । जब बड़े लोगों के नजदीक जाइएगा तो वो तो ऐसे ऐसे काम करते हैं – जो आपके लिए अकल्पनीय है । वैसे कामों से ये सब काम बेहतर है – किसी का पैसा तो चोरी नहीं कर रहे । किसी नेता को दिल्ली या बॉम्बे तो नहीं घुमा रहे । किसी अफसर की शाम का इंतजाम तो नहीं कर रहे ।
मेहनत कीजिए । काम बड़ा या छोटा नहीं होता ।
~ रंजन / 23.01.20

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s