एक कविता …

थोडा रुको …
कुछ सोचो …
ये सफ़र भी तुम्हारा है …
वो मंज़िल भी तुम्हारी है …
कुछ बहको…
थोडा महको …
ये ज़िंदगी भी तुम्हारी है …
वो ख्वाब भी तुम्हारे हैं …
कुछ पाओ …
थोड़ा गवाओं…
ये रात भी तुम्हारी है …
वो दिन भी तुम्हारा है …
थोड़ा खिलखिलाओ …
कुछ आंसू बहाओ…
ये सेहरा भी तुम्हारा है …
वो गुलशन भी तुम्हारा है …:))
~ RR
31 Jan , 2015

One thought on “एक कविता …

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s