ये इश्क़ है …मेरी जां …

ये इश्क़ है , मेरी जाँ …
दरवाज़े बंद कर दो , खिड़कियाँ बंद कर दो ।
चाहो तो ख़ुद को किसी क़ैदखाने में क़ैद कर दो ।
भले इस जहाँ को छोड़ किसी और जहाँ चले जाओ ।
ये इश्क़ है , मेरी जाँ …
रात के किसी पहर ख़यालों में आ जाएगा ।
तेरे इंकार पर भी , तेरी सारी वफ़ा ले जाएगा ।
ये इश्क़ है , मेरी जाँ …
बड़ी मासूमियत से हवाओं में घुल तुमको छू जाएगा ।
ये इश्क़ है , मेरी जां …
उसे आने दो …
पल भर को हुस्न के घमंड को तोड़ जाने दो ।
अपनी मियाद पूरी कर जाएगा …
अपनी उम्र पूरी कर स्वतः ख़त्म हो जाएगा …
सच्चा हुआ तो तुमको मज़बूत कर जाएगा …
झूठा हुआ तो सबक़ दे जाएगा ।
ये इश्क़ है , मेरी जाँ …
उसे आने दो …
~ रंजन / दालान

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s