Home

अनुशान , प्रेम और अहंकार …

सामाजिक जीवन में सफलता अनुशासन से ही मिलती है लेकिन ऐसी कई सफलताओं को पाने के बाद ऐसे घोर अनुशासित लोगों को यह भ्रम भी हो जाता है की जीवन की सारी अनुभूतियां अनुशासन से ही प्राप्त हो जाएंगी ।~ ऐसा मै नही मानता । भूखे पेट सोना भी एक अनुभूति है । और यह … Continue reading अनुशान , प्रेम और अहंकार …

सभ्यता और संस्कृति …

दिनकर लिखते हैं : हर सुसभ्य आदमी सुसंस्कृत ही होता है, ऐसा नहीं कहा जा सकता; क्योंकि अच्छी पोशाक पहनने वाला आदमी भी तबीयत से नंगा हो सकता है और तबीयत से नंगा होना संस्कृति के खिलाफ बात है। और यह भी नहीं कहा जा सकता कि हर सुसंस्कृत आदमी सभ्य भी होता है, क्योंकि … Continue reading सभ्यता और संस्कृति …

दालान पर आपका स्वागत है …!!!


दालान को पढ़ें …!!!

दालान के नए पोस्ट के लिए यहां अपना ईमेल डालें …!!!