छोटे व्यापार और मिडिल क्लास

नया नया नोएडा गया था तो सोसायटी के गेट पर ही एक सब्जी विक्रेता थे । पटना के ही थे सो उन्ही के यहां से सब्जी आता था । सुबह सुबह वो अपना दुकान लगा लेते । सेक्टर 62 नोएडा के सोसायटी पब्लिक सेक्टर कंपनी के थे । मदर डेयरी का बूथ नहीं आया था ।
सब्जी विक्रेता से परिचय हो गया । दुआ सलाम होने लगा । उन्हें पता था कि मुझे गोभी सालों भर पसंद सो वो बिन मौसम भी लेे आते ।
शुरुआती दौर था सो बाबा दो किचेन हेल्पर भी गांव से भेज दिए । सब्जी विक्रेता भी मेरे रहन सहन और बात बर्ताव से कुछ छवि बना लिए । एक रोज वो बोले – सर , तीन लाख रुपया मिलेगा ? हम एकदम से हड़बड़ा गए । पंचम वेतन आयोग में मुश्किल से 16-17 हज़ार तनख़ाह , ऊपर से एक तिहाई किराया में । फिर भी हम उनसे पूछे – क्या कीजिएगा तीन लाख का ? वो बोले – पटना बाईपास पार दो कट्ठा ज़मीन तय किए हैं – छह लाख का , तीन का इंतजाम हो गया है । बाकी तीन का करना है ।
तब मेरे पास पचास हज़ार भी होता तो हम फ्लैट बुक कर देते । ई हमसे तीन लाख मांग रहे हैं ।
लेकिन एक बात समझ में आई – इस बिजनेस में पैसा था । जब सड़क किनारे सब्जी वाला उस दौर में तीन लाख जमा कर सकता था तो हम ई पैंट बुशर्ट झाड़ के क्या कर रहे हैं ।
खैर , कुछ वर्षों बाद – सेक्टर 58 नोएडा में लिट्टी वाले मिल गए – मुजफ्फरपुर के थे सो दोस्ती भी हो गई । वो इतने बढ़िया लिट्टी बनाते की टाइम्स ऑफ इंडिया वाला खबर भी बना दिया । बेहतरीन लिट्टी । उनका भी हाल इस सब्जी वाले जैसा था । बोरा के नीचे सौ टकीया तहिया के रखते थे ।
कहने का मतलब – आई ए , बी ए , इंजीनियरिंग पास कर के कटोरा लेकर मत घूमिए । थोड़ा लाज संकोच छोड़िए । छोटे व्यापार कीजिए । घर का मोह माया त्याग कीजिए । बड़े शहर में अवसर हैं । लिखना तो नहीं चाहिए लेकिन लोग कहते हैं – नोएडा के एक बड़े बिल्डर का छोटा पार्टनर एक चाय वाला था । कभी जरूरत पड़ा तो उसने उस बिल्डर को दो चार लाख का मदद किया और इस बदले उसे कंपनी में शेयर मिला । अब सच झूठ नहीं पता ।
अब पटना में मेरे ऑफिस के बगल में – जो चाय वाला है , वो नवंबर से मार्च तक प्रतिदिन पांच हज़ार कमाता है । खोजिए जगह , लडिए ।
पॉकेट में पैसा रहेगा – दुनिया पूछेगा । जब बड़े लोगों के नजदीक जाइएगा तो वो तो ऐसे ऐसे काम करते हैं – जो आपके लिए अकल्पनीय है । वैसे कामों से ये सब काम बेहतर है – किसी का पैसा तो चोरी नहीं कर रहे । किसी नेता को दिल्ली या बॉम्बे तो नहीं घुमा रहे । किसी अफसर की शाम का इंतजाम तो नहीं कर रहे ।
मेहनत कीजिए । काम बड़ा या छोटा नहीं होता ।
~ रंजन / 23.01.20

वसंत पंचमी और सरस्वती

वसंत पंचमी और सरस्वती पूजा की शुभकामनाएं …!!!

शिशिर का भाई हेमंत अभी भी उत्तर भारत में अपने पैरों को जमाए खड़ा है और ऋतुराज वसंत भी चौखट पर है । कहने का मतलब की ठंड है ।
यह तस्वीर 1650 की मेवाड़ स्टाइल पेंटिंग है । मैंने इधर करीब 5 सालों में लाखों अलग अलग तरह की देवी और देवताओं की पेंटिंग देखी है । मेरे पिछले ही मोबाईल में करीब 16000 तस्वीरें थी । सरस्वती क्रिएटिविटी की देवी हैं और मैंने देखा कि हर एक क्रियेटिव इंसान अपने क्रिएटिविटी में काल और स्थान / जियोग्राफिकल लोकेशन को ही दर्शाया है । उसकी कल्पना वहीं सिमट कर रहती हैं । अगर देवी / देवताओं की पेंटिंग करनी है तो वह कहीं न कहीं अपने मन को रंगों में उतार देता है । तिब्बत की देवी और दक्षिण की देवी की आकृति में अंतर है । अधिकांश देवताओं के चेहरे को कोमल बनाया गया क्योंकि यह मान कर चला जाता है कि जो सच में शक्तिशाली है उसके अंदर क्षमा की शक्ति आएगी ही आएगी और क्षमा आपके अंदर की कोमलता को बढ़ाएगी । हालांकि आजकल के शिव जिम से लौटते ज्यादा नजर आते हैं , शक्ति के लिए बेचैन कम । हा हा हा । खैर , फिर से एक बार लिख रहा हूं – शक्ति के हजारों रूप और उन रूपों तक पहुंचने का दो ही आधार – या तो ईश्वरीय देन या फिर साधना । अब मेरा यह पुरजोर मानना है कि साधना से प्राप्त शक्ति कि आयु कम होती है और ईश्वरीय देन अंतिम दिन तक रहता है और आकर्षण हमेशा ईश्वरीय देन वाली शक्ति ही पैदा करती है । लेकिन शक्ति का असल आनंद आकर्षण पैदा करने में नहीं है , खुद से उसके आनंद पाने में हैं । लेकिन इंसान का व्यक्तित्व ही इतना छोटा होता है कि वह आनंद छोड़ बाज़ार में आकर्षण पैदा करने निकल पड़ता है । अब यह सही है या गलत – बहस का मुद्दा है ।
लेकिन , मैंने सरस्वती को खुद को छूते हुए महसूस किया है , कब , कैसे और क्यों – पता नहीं । और शक्ति के किसी भी रूप का खुद को छूते हुए महसूस करना ही असल आनंद है या कभी कभी पीड़ा भी :)) हा हा हा ।
फिर से एक बार – वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं …!!! ऋतुराज वसंत का आनंद लीजिए …
धन्यवाद ..!!!
~ रंजन / दालान / वसंत पंचमी – 2020

अभिभावक होना …

इस जीवन में कई मुश्किल काम करने होते हैं – उन्ही में से एक है – ‘पैरेंटिंग’ ! अब इस उम्र में जब बच्चे टीनएजर हो चुके हैं – इसका दबाब महसूस होता है ! हर एक पीढी अपने हिसाब से – अपने दौर की नज़र से – अपनी बेसिक क्लास की समझ से ‘पैरेंटिंग’ करना चाहती है ! जैसे मेरे माता पिता जिस जमाने से आते थे – वहां ‘नौकरी’ ही बहुत बड़ी चीज़ थी और मै जिस तरह की विचारधारा और एक्सपोजर ले रहा था – वहां एक जबरदस्त कनफ्लिक्ट था – जीवन मतलब ‘आदर’ और किसी भी तरह की नौकरी से किसी के जीवन का भरण पोषण हो सकता है – उसे ‘आदर’ कैसे मिल सकता है – यह बात मेरी समझ से परे था ! संभवतः मेरे बचपन में मेरे दादा जी का प्रभाव था जो ‘पोलिटिक्स’ में थे और मेरे पिता जी – मुझपर से अपना लगाम ढीली करने के मूड में नहीं थे – संभवतः आज भी नहीं – उन्हें आज भी लगता है – जिस दिन लगाम ढीली हुई – मै ‘हेड ओं कोलिजन’ कर बैठूँगा…हा हा हा !
खैर …अब ज़माना बहुत बदल चुका है …बच्चे जन्म से ही ग्लोबल एक्सपोजर ले रहे हैं …जो मेट्रो लिविंग हमारे कल्पना में बसती थी …वो इलेक्ट्रोनिक माध्यम से उनकी नज़र में चौबीस घंटे हैं …जो गीत हम रेडिओ पर सुने ..वो किसी भी पल उनके उंगली के इशारे इंटरनेट के माध्यम से है ..! सबसे बड़ी बात – “एक प्लेन / समतल प्लेटफार्म’ की तरह समाज हो चुका है – जहाँ न कोई बड़ा है और ना ही कोई छोटा है – यह इस शताब्दी की सबसे बड़ी सामाजिक परिवर्तन है ! हम नेहरु और मुस्तफा कमालपाशा को पढ़ बड़े हुए – हमारे बच्चे स्टीव जॉब्स और फ्लिप्कार्ट / अमेज़न की सफलता पढ़ रहे हैं ! दो वक़्त की रोटी अब दिक्कत नहीं रही – मेरे गुरु और भारत के मशहूर प्रोफ़ेसर स्व० चन्द्रशेखर झा ( भूतपूर्व आईआईटी डाइरेक्टर एवं बीएचयू वाईस चांसलर) ने करीब दस साल पहले कहा था – तुम एक शिक्षक हो – तुम्हारे विद्यार्थी तीस की उम्र तक लगभग छः देशों के नागरिक के साथ काम कर चुके होंगे – जिन गोरों को देख तुम आँखें बड़ी कर लेते हो – तुम्हारे बच्चे उनके साथ न्यूयार्क के किसी रेस्त्रां में – किसी वीकएंड अपनी शाम बिता रहे होंगे – उन गोरों के बराबर कांफिडेंस के साथ !
अब इस माहौल में – कैसी ‘पैरेंटिंग’ हो – एक अज़ीज़ मित्र ने कहा – औलाद के जीने खाने के लिए अकूट धन है – बस एक ही चीज़ सिखानी है – इस भीड़ में कैसे रहा जाए – और खुद की भावनाओं को किसी चोट से कैसे बचाया जाय – क्योंकी यह ‘इंसान की प्रकृती’ से जुड़ा है ! उसके कहने का एक ही मतलब था – अपने बच्चे के अन्दर ‘ फेक और असल’ की पहचान करने की क्षमता बढ़ाना !
कई बार बेहतर बेहतर पैरेंटिंग के चक्कर में – हमारी पिछली पीढी – हमें इतना ज्यादा सुरक्षा कवच पहना दी – यह भूलते हुए – एक दिन हमें उसी समाज में जाना है – जिससे बचा के हमारी परवरिश की गयी – फिर हमपर जो गुज़री वो हम ही जाने – सिखने के चक्कर में – हम अपनी मासूमियत कब खो बैठे – पता ही नहीं चला !
सबसे बड़ी मुश्किल है – बेटीओं की पैरेंटिंग – अब उनपर जबरदस्त बोझ आ चुका है – उन्हें ना सिर्फ अपनी ‘प्रकृती’ के हिसाब से जीवन जीना है बल्की अपने जीवन के हमसफ़र के साथ कदम भी मिलाना है – उसे अपने क्लास में टॉप कर के बढ़िया प्रोफेशनल / नौकरी भी पकडनी है – अपनी कोमलता को भी बरक़रार रखना है – और माँ भी बनना है – हाँ …सुबह का नास्ता भी तो तैयार करना है – अपनी मेट्रो रेल को पकड़ने के पहले – देर शाम थकने के बाद – चाय बनाना भी तो उनके जिम्मे होगा …अगर हमसफ़र ने कोई नया फ़्लैट खरीदा – लोन में आधा का हिस्सेदार भी बनना है …और न जाने …क्या क्या …वीकएंड में बच्चों का होमवर्क भी !
लडके तो वही थे …जो कल थे …!
पैरेंटिंग मुश्किल हो चुकी है …जो कुछ हम अपने अनुभव से सिखायेंगे …बच्चे उससे बीस साल आगे की सोच में जियेंगे …लगाम कब ढीली रखनी है …कब जोर से पकड़ना है …कुछ तो हमें भी सिखना है …:))
बस यूँ ही …कई आयामों को एक सांस में …लिखते हुए …:))
थैंक्स …:))
~ रंजन /दालान

जब तुम ताज को देखकर …

तब जब तुम ताज को देख कर झूम जाओगी …
उम्र के उस मोड़ पर .
अपनी सफेद बालों और बेहतरीन पाशमिना के साथ ….
उम्र के उस मोड़ पर .
एयरपोर्ट से उसी तेज चाल से निकलते हुए ….
मुझे देख मुस्कुरा बैठोगी ….
टैक्सी लाए हो या खुद ड्राइव करोगे …
थोड़ी तंग …थोड़ी परेशान …
मुझसे हमेशा कि तरह बेझिजक सवाल पूछ बैठोगी …
उम्र के उस मोड़ पर .
अपनी सफेद बालों और बेहतरीन पाशमीना के साथ ….
मै भी थोड़ा नटखट …
उम्र के उस मोड़ पर …
हल्के से पूछ बैठूंगा …
बगल में बैठोगी या पीछे …
उम्र के उस मोड़ पर .
रास्ते में वृंदावन और मथुरा भी तो पड़ता है …
हौले से तुम मुझसे पूछ बैठोगी …
उम्र के उस मोड़ पर .
सफेद बालों और बेहतरीन पाशमिना के साथ …

~ रंजन / दालान / 16.01.20

ज़िन्दगी के पन्ने

हर ज़िंदगी एक कहानी है ! पर कोई कहानी पूर्ण नहीं है ! हर कहानी के कुछ पन्ने गायब हैं ! हर एक इंसान को हक़ है, वो अपने ज़िंदगी के उन पन्नों को फिर से नहीं पढ़े या पढाए, उनको हमेशा के लिए गायब कर देना ही – कहानी को सुन्दर बनाता है ! “अतीत के काले पन्नों में जीना वर्तमान को ज़हरीला बना देता है – और जब वर्तमान ही ज़हरीला है फिर भविष्य कभी भी सुखदायक नहीं हो सकता “
काले पन्ने कभी भी ना खुद के लिए प्रेरणादायक होते हैं और ना ही दूसरों के लिए ! भगवान् भी अवतार बन के आये तो उन्हें भी इस पृथ्वी पर ‘अप – डाउन ‘ देखना पडा ! उनके कष्ट को हमारे सामने पेश तो किया गया पर काले पन्नों को कहानीकार बखूबी गायब कर दिए !
कोई इंसान खुद कितना भी बड़ा क्यों न हो – वो अपने जीवन के एक ‘ब्लैक होल’ से जरुर गुजरता है – अब वह ‘ब्लैक होल’ कितना बड़ा / लंबा है – यह बहुत कुछ नसीब / दुर्बल मन / और अन्य कारकों पर निर्भर करता है !
हर इंसान खुद को सुखी देखना चाहे या न चाहे – पर खुद को शांती में देखना चाहता है – कई बार ये अशांती कृतिम / आर्टिफिसियल भी होती है – थोड़े से मजबूत मन से इस कृतिम अशांती को दूर किया जा सकता है – पर कई बार ‘लत / आदत’ हमें घेरे रहती हैं – आपके जीवन में शांती हो, यह सिर्फ आपके लिए ही जरुरी नहीं है – इस पृथ्वी पर कोई अकेला नहीं होता – यह एक जबरदस्त भ्रम है की हम अकेले होते हैं – हर वक़्त आपके साथ कोई और भी होता है – एक उदहारण देता हूँ – ऋषी / मुनी जंगल में जाते थे – बचपन की कई कहानीओं में वैसे ऋषी / मुनी के साथ कोई जानवर भी होता था – जिसके भावना / आहार / सुरक्षा की क़द्र वो करते थे – ऐसा ही कुछ इस संसार में भी होता है – आप कभी भी / किसी भी अवस्था में ‘अकेले’ नहीं हैं – इस धरती का कोई न कोई प्राणी आपपर भावनात्मक / आर्थीक / शारीरिक रूप से निर्भर है – या आप किसी के ऊपर निर्भर हैं !
तो बात चल रही थी जीवन के काले पन्नों की …ईश्वर ने हमें एक बड़ी ही खुबसूरत तोहफा दिया है – “भूलने की शक्ती” – हम अपने जीवन के काले पन्नों को सिर्फ फाड़ना ही नहीं चाहते बल्की उन्हें इस कदर फेंक देना चाहते हैं – जैसे वो कभी हमारे हिस्से ही नहीं रहे – उस काले पन्ने में ‘कोई इंसान / कोई काल – समय / कोई जगह’ – कुछ भी शामिल हो सकता है ! पर उसके लिए सबसे महत्वपूर्ण है – आउट ऑफ साईट , आउट ऑफ माइंड – और जब तक यह नहीं होगा – आप काले पन्नों में ही उलझे रह जायेंगे – और आगे की कहानी भी बगैर स्याही ..न जाने क्या क्या लिखेगी 🙂
हिम्मत कीजिए – कृतिम अशांती और काले पन्नों से बाहर निकलिए ,खुद के लिए !

~ RR / Daalaan / 18.01.2015

प्रेम और युद्ध

दिनकर लिखते हैं – ” समस्या युद्ध की हो अथवा प्रेम की, कठिनाइयाँ सर्वत्र समान हैं। ” – दोनों में बहुत साहस चाहिए होता है ! हवा में तलवार भांजना ‘युद्ध’ नहीं होता और ना ही कविता लिख सन्देश भेजना प्रेम होता है ! युद्ध और प्रेम दोनों की भावनात्मक इंटेंसिटी एक ही है ! युद्ध में किसी की जान ले लेने की शक्ती होनी चाहिए और प्रेम में खुद को विलीन करने की शक्ती ! दोनों का मजा तभी है – जब सामनेवाला भी उसी कला और साहस से मैदान में है ! कई बार बगैर कौशल भी – साहस से कई युद्ध या प्रेम जीता जाता है – कई बार सारे कौशल …साहस की कमी के कारण वहीँ ढेर हो जाते हैं …जहाँ से वो पनपे होते हैं ! और एक हल्की चूक – युद्ध में जान ले सकती है और प्रेम में नज़र से गिरा सकती है !
इतिहास गवाह है – ऐसे शूरवीरों से भरा पडा है – जिसने प्रेम में खुद को समर्पित किया और वही इंसान युद्ध में किसी को मार गिराया – यह ईश्वरीय देन है – भोग का महत्व भी वही समझ सकता है – जिसने कभी कुछ त्याग किया हो !
कहते हैं – राजा दशरथ किसी युद्ध से विजेता होकर – जब कैकेयी के कमरे में घुसे तो उनके पैर कांपने लगे – यह वही कर सकता है – जिसे युद्ध और प्रेम दोनों की समझ हो ! दोनों में पौरुषता और वीरता दोनों की अनन्त शक्ती होनी चाहिए ! पृथ्वीराज चौहान वीर थे – प्रेम भी उसी कौशल और साहस से किया – जिस कौशल और साहस से युद्ध ! मैंने इतिहास नहीं पढ़ा है – पर कई पौरुष इर्द गिर्द भी नज़र आये – जिनसे आप सीखते हैं ! हर पुरुष की तमन्ना होती है – वो खुद को पूर्णता के तरफ ले जाए – और यह सफ़र आसान नहीं होता !
युद्ध और प्रेम …दोनों के अपने नियम होते हैं – और दोनों में जो हार जाता है – उसे भगोड़ा घोषित कर दिया जाता है ! रोमांस / इश्क प्रेम नहीं है …महज एक कल्पना है ! फीलिंग्स नीड्स एक्शन – जब भावनाएं एक्शन डिमांड करती हैं – तभी दूध का दूध और पानी का पानी हो जाता है – तब पता चलता है – ख्यालों को मन में पालना और उन्हें हकीकत में उतारना – कितना मुश्किल कार्य है !
युद्ध के सामान ही प्रेम आपसे एक एक कर के सब कुछ माँगता चला जाता है – देनेवाला किसी भी हाल में लेनेवाले से उंचा और ऊपर होता है – युद्ध में हारने वाला आपसे माफी मांगता है – प्रेम में बहाने बनाता है – युद्ध में आप माफ़ कर सकते हैं – पर प्रेम में कभी माफी नहीं मिलती – युद्ध भी कभी कभी प्रेम में बदल जाता है और सबसे बड़ी मुश्किल तब होती जब आप जिससे प्रेम करे – उसी से युद्ध करना पड़े ! और उसी इंटेंसिटी से करें – जिस इंटेंसिटी से प्रेम किया था – फिर तो ….वह दुबारा भगोड़ा हो सकता है …:))

~ RR / Daalaan / 19.01.2015

प्रकृति , धरा और ऋतुराज

धरा – सखी , ये किसकी आहट है ?
प्रकृति – ये वसंत की आहट लगती है ..
धरा – कौन वसंत ? हेमंत का भाई ऋतुराज वसंत ?
प्रकृती – हाँ , वही तुम्हारा ऋतुराज वसंत …:))
धरा – और ये शिशिर ?
प्रकृति – वो अब जाने वाला है …
धरा – सुनो , मैं कैसी दिख रही हूँ …
प्रकृति – बेहद ख़ूबसूरत …
धरा – सच बोल रही हो …न..
प्रकृति – मैंने कब झूठ बोला है …
धरा – ऋतुराज के साथ और कौन कौन है …
प्रकृति – कामदेव हैं …
धरा – ओह …फिर मुझे सजना होगा …
प्रकृति – मैंने तुम्हारा श्रृंगार कर दिया है …
धरा – वो कब और कैसे …
प्रकृति – सरसों के लहलहाते खेतों से ..आम्र की मंजरिओं से …
धरा – सुनो , फागुन भी आएगा ..न …
प्रकृति – तुम बुलाओ और वो न आए …:))
धरा – अबीर के संग आएगा ?
प्रकृति – गुलाल के संग भी …
धरा – सुनो ..मेरा और श्रृंगार कर दो …
प्रकृति – सूरज की नज़र लग जाएगी …
धरा – सुनो ..ये ऋतुराज वसंत कब तक रुकेंगे ?
प्रकृति – कहो तो …पूरे वर्ष रोक लूँ …
धरा – नहीं …नहीं…सच बताओ न …
प्रकृति – चैत कृष्ण पक्ष तक तो रुकेंगे ही …
धरा – कामदेव कहाँ हैं ?
प्रकृति – तुम्हारे नृत्य का इंतज़ार कर रहे हैं …
धरा – थोड़ा रुको …कब है नृत्य…
प्रकृति – वसंत पंचमी को …
धरा – सरस्वती पूजन के बाद ?
प्रकृति – हां …
धरा – सरस्वती कैसी हैं ?
प्रकृति – इस बार बड़ी आँखों वाली …
धरा – और उनका वीणा ?
प्रकृति – उनके वीणा के धुन पर ही तुम्हारा नृत्य होगा …
धरा – सुनो …मेरा और श्रृंगार कर दो …
प्रकृति – कर तो दिया …
धरा – नहीं …अभी घुँघरू नहीं मिले …
प्रकृति – वो अंतिम श्रृंगार होता है …
धरा – फिर अलता ही लगा दो …
प्रकृति – सारे श्रृंगार हो चुके हैं …
धरा – फिर नज़र क्यों नहीं आ रहा …
प्रकृति – जब ऋतुराज आते हैं …धरा को कुछ नज़र नहीं आता …
धरा – कहीं मै ख्वाब में तो नहीं हूँ …
प्रकृती – नहीं सखी …हकीकत …वो देखो तुम्हारा सवेरा …
धरा – दूर से आता …ये कैसा संगीत है …
प्रकृती – कामदेव के संग वसंत है …ढोल – बताशे के संग दुनिया है …
धरा – मेरा बाजूबंद कहाँ है …?
प्रकृती – धरा को किस बाजूबंद की जरुरत ?
धरा – नहीं …मुझे सोलहों श्रृंगार करना है ..मेरी आरसी खोजो ..
प्रकृती – मुझपर विश्वास रखो – मैंने सारा श्रृंगार कर दिया है …
धरा – नारी का मन ..कब श्रृंगार से भरा है ..
प्रकृती – चाँद से पूछ लो …:))
धरा – सुनो …ऋतुराज आयें तो तुम छुप जाना …आँगन के पार चले जाना …
प्रकृती – जैसे कामदेव में ऋतुराज समाये – वैसे ही तुम में मै समायी हूँ …
धरा – नहीं …तुम संग मुझे शर्म आएगी …
प्रकृती – मुझ बिन ..तुम कुछ भी नहीं …
धरा – सखी ..जिद नहीं करते …
प्रकृती – मै तुम्हारी आत्मा हूँ …आत्मा बगैर कैसा मिलन ..
धरा – फिर भी तुम छुप जाना …:))
ऋतुराज के रुकने तक …उनके ठहरने तक ….:))
………………
~ RR / 09.02.2016 / Patna

तस्वीर साभार : सुश्री गीता कामत , आसाम , भारत