गांधी …

आज से पांच सौ साल बाद कोई विश्वास नहीं करेगा - कोई इंसान महात्मा बन कर - एक धोती में खुद को लपेट कर - वर्षों तक अपने विश्वास को कायम रखा ! "मेरे अन्दर एक सच है और वही सच मेरी लड़ाई को जिंदा रखेगा" - शायद यही जीवन दर्शन रहा होगा - महात्मा … Continue reading गांधी …